कबूतर पालन की पूरी जानकारी, Pigeon information in hindi

कबूतर पालन की पूरी जानकारी

About pigeon in hindi I pigeon Information in hindi i pigeon bird in hindi I pigeon breeds in hindi I pigeon in hindi I kabutar kya khata hai I कबूतर के बारे में रोचक बातें I कबूतर पालन की पूरी जानकारी I pigeon food I pigeon life span I

कबूतर पालन की पूरी जानकारी
कबूतर पालन की पूरी जानकारी

कबूतर को शांति का प्रतीक माना जाता है यहाँ हम ‘कबूतर पालन की पूरी जानकारी’ आपको देने जा रहे हैं। भारत में बहुत पुराने समय से ही कबूतर को पाला जा रहा है लगभग 6000 साल से भारत में कबूतर को पाला जा रहा है। भारत में मिलने वाले कबूतर स्लेटी और सफ़ेद रंग के होते हैं।

पाकिस्तान, बांग्लादेश, चीन आदि देशों में तो कबूतर पालन को काफी लोगों ने अपनी जीविका का साधन बनाया हुआ है लेकिन धार्मिक मान्यताओं के कारण भारत इसमें पीछे है लेकिन अब भारत में भी कबूतर पालन तेजी से बढ़ता जा रहा है। कबूतर पालन में कम मेहनत और कम लागत की आवश्यकता होती है तो आइये जानते हैं – कबूतर पालन की पूरी जानकारी

Also read- 13 Colorful fish in Hindi, आप भी पालें घर में

कबूतर के बारे में

कबूतर पालन की पूरी जानकारी
कबूतर पालन की पूरी जानकारी

कबूतर पूरी दुनिया में पाया जाने वाला पक्षी है जो पूरी तरह से पंखों से ढका रहता है इसके अगले पैर पंखों में बदल गए हैं और पिछले पैर शल्कों से ढके हुए होते हैं इसके पैर में तीन उँगलियाँ आगे की तरफ और एक ऊँगली पीछे की तरफ होती है। इनकी एक छोटी और नुकीली चोंच होती है तथा जबड़े में दांत नहीं होते हैं।कबूतर अपने शरीर के तापमान पर नियंत्रण रखता है और ये उड़ने वाला पक्षी है।

Also read- मुर्गी के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में Complete information about hen in Hindi

कबूतर पालने के फायदे

कबूतर पालन की पूरी जानकारी
कबूतर पालन की पूरी जानकारी

कबूतर को पालना कम श्रम और कम लागत की आवश्यकता पड़ती है इसलिए इसे अपनी आजीविका बनाना आसान है। कबूतर को आप अपने घर की छत या बरामदे में भी पाल सकते हैं जिसका मतलब है इसे आप कम निवेश में पाल सकते हैं। इसके खाने की लगत भी कम होती है ज्यादातर ये अपना खाना खुद ही ढूंढ़कर खा लेते हैं।

बाज़ार में कबूतर के मांस की बहुत अच्छी मांग है और पैसा भी अच्छा मिल जाता है। कबूतर पालन से आप छोटी पूंजी में अधिक लाभ कमा सकते हैं। इनमे रोग भी ज्यादा नहीं होते हैं इसलिए इसमें भी खर्चा ज्यादा नहीं आता है। इसका मल खेतों में खाद का काम करता है और इसके पंख से बच्चों के खिलोने बनाये जाते हैं। कीड़े-मकोड़े खाकर कबूतर पर्यावरण को साफ़ रखने में भी मदद करते हैं।

कबूतर की नस्लें

कबूतर पालन की पूरी जानकारी
कबूतर पालन की पूरी जानकारी

दुनिया भर में लगभग कबूतर की 300 से ज्यादा नस्लें पायी जाती हैं जिनमे कुछ नस्लें मांस उत्पादक नस्लें हैं तो कुछ मनोरंजन के लिए, आइये जानते हैं इनके बारे में –

मांस उत्पादक नस्लें

मांस उत्पादक नस्लों में मुख्य रूप से गोला, लोखा, टेक्सोना, श्वेत राजा और रजत राजा हैं।

मनोरंजक नस्लें

इन नस्लों में मोडेना ,शिराजी, मयूरपंखी, जैकोबिन, लाहोर, मुखी, गिरीबाज, लोटल, फ्रिलबेक,ट्रम्पिटर और फ़न्तासील प्रमुख हैं।

कबूतर का आहार

कबूतर पालन की पूरी जानकारी
कबूतर पालन की पूरी जानकारी

कबूतर का आहार बहुत ही साधारण है ये गेंहूं, जौ, मक्का ,चावल, धान,सरसों, चना आदि सब खा लेते हैं बस अगर आप अपने घर के आस- पास इस प्रकार का भोजन रखेंगे तो वह खुद ही उसके पास जाकर अपने-आप भोजन कर लेते हैं। एक कबूतर को एक दिन में 35 से 50 ग्राम दाने की आवश्यकता पड़ती है। भोजन के साथ-साथ इन्हें खनिज पदार्थों का मिश्रण भी इनकी ग्रोथ के लिए ज़रूर दें।

Also read- 13 Colorful fish in Hindi, आप भी पालें घर में

बेबी कबूतर का दाना

कबूतर पालन की पूरी जानकारी
कबूतर पालन की पूरी जानकारी

कबूतर के छोटे बच्चों को आपको खिलाने की कोई ज़रुरत नहीं होती है उन्हें नर और मादा कबूतर खुद ही 10 दिन तक अपने होंठों से दूध पिलाती है और जन्म के समय से चार दिन का दूध बेबी कबूतर के पेट में होता है जिससे वह अपना काम चलाते हैं और उसके बाद वह खुद खाना सीख जाते हैं। आप केवल उनके पास ताज़ा साफ़ पानी और ताज़ा दाने की व्यवस्था रखें।

कबूतर का जीवन- काल

कबूतर पालन की पूरी जानकारी
कबूतर पालन की पूरी जानकारी

कबूतर का जीवन-काल 12 से 15 साल का होता है अपने जीवन-काल में कबूतर जोड़े में ही रहते हैं। नर और मादा दोनों कबूतर ही अपना घोंसला बनाने के लिए तिनका इकठ्ठा करते हैं। 5 माह की उम्र से कबूतर अंडा देना शुरू कर देते हैं जो लगभग 5 साल तक देते हैं नर और मादा दोनों कबूतर ही एक बार में दो-दो अंडे देते हैं। 17 से 18 दिनों में अंडे से बच्चे निकल आते हैं और 26 दिन में व्यस्क हो जाते हैं।

कबूतर का घर

कबूतर पालन की पूरी जानकारी
कबूतर पालन की पूरी जानकारी

कबूतर के लिए घर लगभग 30 सेमी लम्बा, 30 सेमी चौड़ा और 30 सेमी ऊँचा होना चाहिए और ध्यान रखें कबूतर का घर हमेशा ऊँचे स्थान पर बनाएं जहाँ वह बिल्ली, कुत्ता, चूहा जैसे अपने दुश्मनों से बचा रहे। साथ ही ऊँचे स्थान से बारिश का पानी भी उनके घर में आने का खतरा नहीं रहेगा। महीने में कम से कम दो बार उनके घर की सफाई ज़रूर करें और थोड़ा सा पुआल भी उनके घर में रख दें। कबूतर के घर के पास थोड़ी मिटटी और पानी ज़रूर रखें क्योंकि वह धूल और पानी से अपनी सफाई करते हैं। वैसे हम तो यही कहेंगे अगर संभव है तो उन्हें खुला घूमने दें क्योंकि उन्हें घूमना बहुत पसंद है।

कबूतर से अंडा उत्पादन

कबूतर पालन की पूरी जानकारी
कबूतर पालन की पूरी जानकारी

कबूतर नर हो या मादा दोनों ही महीने में एक बार में दो अंडे देते हैं और ये हमेशा ही जोड़े में रहते हैं। कबूतर नर और मादा दोनों ही अपने घोंसले के लिए तिनके, पुआल इकठ्ठा करते हैं और उसमे अंडे देते हैं। कबूतर के अंडे से बच्चे 17 से 18 दिन में बाहर आ जाते हैं इसलिए कबूतर के अंडे से ज्यादा फायदा उनके बच्चे के उत्पादन से होता है क्योंकि कबूतर का अंडा आकर में छोटा होता है।

कबूतर के रोग और उनका निदान

कबूतर पालन की पूरी जानकारी
कबूतर पालन की पूरी जानकारी

कबूतर में किसी और पक्षी की तुलना में कम रोग ही पाए जाते हैं और ज्यादातर ये स्वाथ्य जीवन ही गुजारते हैं जो रोग इनमे ज्यादा पाए जाते हैं उनमे हैजा, पॉक्स, पेरिटीफाइड , इन्फुएन्जा के अलावा कुपोषण या जूं से पीड़ित पाए जा सकते हैं इनके निदान के लिए आप पशु-चिकित्सक से मिलें। और किसी कबूतर के अस्वथ्य होने के बाद तुरंत ही उसे अन्य दुसरे कबूतर से अलग कर दें और फ़ौरन पशु-चिकित्सक की सलाह लें।

FAQS- कबूतर पालन की पूरी जानकारी

QUES- हमें कबूतर पालन क्यों करना चाहिए ?

ANS- कबूतर पालन कम लगत और कम श्रम में शुरू हो जाता है और कबूतर ज्यादातर स्वाथ्य ही रहते हैं साथ ही इनमे बहुत कम और जानलेवा बीमारियां होती हैं तो इनकी देख-रेख में भी कम खर्च आता है और मुनाफा ज्यादा होता है इसलिए कबूतर पालन एक फायदे का सौदा है।

QUES- कबूतर क्या खाता है ?

ANS- कबूतर का आहार बहुत ही साधारण है ये गेंहूं, जौ, मक्का ,चावल, धान,सरसों, चना आदि सब खा लेते हैं बस अगर आप अपने घर के आस- पास इस प्रकार का भोजन रखेंगे तो वह खुद ही उसके पास जाकर अपने-आप भोजन कर लेते हैं। एक कबूतर को एक दिन में 35 से 50 ग्राम दाने की आवश्यकता पड़ती है।

QUES- कबूतर का जीवन-काल कितना होता है ?

ANS- कबूतर का जीवन-काल 12 से 15 साल का होता है अपने जीवन-काल में कबूतर जोड़े में ही रहते हैं।

QUES- किस उम्र से कबूतर अंडा देना शुरू कर देते हैं ?

ANS- 5 माह की उम्र से कबूतर अंडा देना शुरू कर देते हैं जो लगभग 5 साल तक देते हैं नर और मादा दोनों कबूतर ही एक बार में दो-दो अंडे देते हैं। 17 से 18 दिनों में अंडे से बच्चे निकल आते हैं और 26 दिन में व्यस्क हो जाते हैं।

QUES- क्या नर कबूतर भी अंडे देता है ?

ANS- हाँ, नर कबूतर भी अंडे देता है ?

QUES- कबूतर में कौन से रोग होते हैं और इनका क्या निदान है ?

ANS- कबूतर में हैजा, पॉक्स, पेरिटीफाइड , इन्फुएन्जा के अलावा कुपोषण या जूं से पीड़ित पाए जा सकते हैं इनके निदान के लिए आप पशु-चिकित्सक से मिलें।

दोस्तों, आपको ‘कबूतर पालन की पूरी जानकारी’ पोस्ट कैसी लगी हमें कमैंट्स के द्वारा ज़रूर बताएं हमने इस लेख में ‘कबूतर पालन की पूरी जानकारी’ देने की पूरी कोशिश की है, हमारे फेसबुक पेज को फॉलो करना न भूलें। धन्य्वाद,

5/5 - (20 votes)

Leave a Comment